Inspiration from Nida Fazli Shayari

Inspiration from Nida Fazli Shayari

In love everyone becomes a poet

वो शोख शोख नज़र सांवली सी एक लड़की, जो रोज़ मेरी गली से गुज़र के जाती है, सुना है वो किसी लड़के से प्यार करती है


You are defined by your company

अच्छी संगत बैठकर, संगी बदले रुप जैसे मिलकर आम से मीठी हो गयी धुप 


A mother’s love is supreme

मैं रोया परदेस में, भीगा माँ का प्यार दुःख ने दुःख से बात कि, बिन चीठी बिन तार 


Purpose is one only methods are different

सब कि पूजा एक सी, अलग अलग है रीत मस्जिद जाये मौलवी, कोयल गाए गीत


Those who struggle for meal are least concerned about anything else

सातों दिन भगवान के, क्या मंगल क्या पीर जिस दिन सोये देर तक, भूखा रहे फकीर


Humanity is the best religion

चाहे गीता बांचिये, या पढिये कुरान मेरा तेरा प्यार ही हर पुस्तक का ज्ञान


No one can care as much as a mother

बेसन की सोंधी रोटी पर, खट्टी चटनी जैसी माँ याद आती है चौका, बासन, चिमटा, फूंकनी जैसी माँ 


Fall in love and then know what life is

होश वालों को ख़बर क्या बेख़ुदी क्या चीज़ है, इश्क़ कीजे फिर समझिए ज़िन्दगी क्या चीज़ है


Everyone has to fight their own battle

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा, मैं ही कश्ती हूँ मुझी में है समंदर मेरा


We are all lost in our day to day life

किससे पूछूँ कि कहाँ गुम हूँ बरसों से, हर जगह ढूँढता फिरता है मुझे घर मेरा


No one satisfied in this materialistic world

दुनिया जिसे कहते हैं जादू का खिलौना है, मिल जाये तो मिट्टी है खो जाये तो सोना है


Don’t be so sad

अच्छा-सा कोई मौसम तन्हा-सा कोई आलम, हर वक़्त का रोना तो बेकार का रोना है


Accept all phases of life

ग़म हो कि ख़ुशी दोनों कुछ देर के साथी हैं, फिर रस्ता ही रस्ता है हँसना है न रोना है


Nothing will come so easily until you make efforts

दिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती, ख़ैरात में इतनी बङी दौलत नहीं मिलती


We all spend our life with our egos

व़क्त रूठा रहा बच्चे की तरह, राह में कोई खिलौना ना मिला, दोस्ती भी तो निभाई ना गई, दुश्मनी में भी अदावत ना हुई


We all are alive because of humanity

कहाँ चिराग़ जलायें कहाँ गुलाब रखें, छतें तो मिलती हैं लेकिन मकाँ नहीं मिलता


No one is satisfied, no matter what

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता, कहीं ज़मीं तो कहीं आसमाँ नहीं मिलता


Destruction of invisible

बुझा सका है भला कौन वक़्त के शोले, ये ऐसी आग है जिस में धुआँ नहीं मिलता


Don’t forget to be social

बात कम कीजे जहानत को छिपाते रहिये अजनबी शहर है ये, दोस्त बनाते रहिये 


Don’t take your ego to the extreme level

दुश्मनी लाख सही, ख़त्म ना कीजे रिश्ता दिल मिले ना मिले, हाथ मिलते रहिये 


Find those who can understand your pain

हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी, फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी 


Every person is suffering from their own problems

सुबह से शाम तक बोझ ढोता हुआ, अपनी ही लाश का खुद मज़ार आदमी


Love or hate, it’s between humans

हर तरफ भागते दौड़ते रास्ते, हर तरफ आदमी का शिकार आदमी


Live life not just spend it

रोज जीता हुआ रोज मरता हुआ, हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी


We are all trapped in a rat race

ज़िन्दगी का मुक़द्दर सफ़र दर सफ़र, आखिरी सांस तक बेक़रार आदमी


Small Request: Dear Reader, hope you liked our content on Motivation. We want to keep our content free, engaging & effective to change lives. In order to survive and to create more content we need ‘Financial Help’. We value every single penny you pay us. Without your support we can't achieve our dream to turn 'Motivation into Utility'. Can you please help us using this link.
SHARE