टेम्पो चलाकर परिवार पालने को मजबूर यह बॉक्‍सर – मृणाल भोंसले – Ignored Sportpersons

Mrinal Bhonsle Boxer of Pune Motivational (PP)

पुणे के 28 वर्षीय मृणाल भोंसले ने नेशनल चैंपियनशिप में बॉक्सिंग का कांस्य पदक जीता है, लेकिन इसके बावजूद वे टेम्पो चलाकर परिवार पालने को मजबूर हैं।

बॉक्सिंग के प्रति अपने उत्साह को कायम रखते हुए वह और पदक जीतना चाहते हैं, लेकिन सुविधाओं का अभाव है। मृणाल शुरू से बॉक्सिंग का राष्ट्रीय पदक जीतना चाहते थे। अपने इस सपने को साकार करने के लिए उन्होंने कई तरह के काम किए।

जिला और राज्य स्तर पर शानदार प्रदर्शन करने के बाद भी राष्ट्रीय स्तर पर कामयाबी नहीं मिली तो 2002 में बॉक्सिंग छोड़ने का मन बना लिया था। चार साल बाद फिर नई शुरुआत की, आखिरकार कामयाबी मिली। इस साल जनवरी में हुए राष्ट्रीय खेलों में 64 किलो वर्ग में उन्होंने कांस्य पदक जीता।

Source

Mrunal Bhosale in News

Pune-Based National Boxing Champ Drives Tempo to Make Ends Meet (NDTV)

 

SHARE